Trending
Search

कोयला खदान हादसा- जारी है लाशों का निकलना, रोती आंखें खोज रहीं अपनो को

गोड्‌डा (झारखंड)। यहां के ईस्टर्न कोल फील्ड लिमिटेड (ईसीएल) की राजमहल परियोजना में ललमटिया के डीप माइंस क्षेत्र भौड़ाय में गुरुवार रात हुई कोयला खदान दुर्घटना में खदान में दबे मजदूरों में से अब तक दस शव बरामद कर लिये गये हैं। जैसे-जैसे शव निकल रहे हैं, इलाके में लोगों की चीख-पुकार तेज होते जा रही है।
रोते-बिलखते परिजन ढूंढ रहे अपनों को …
 – जैसे ही इस घटना की खबर फैली, यहां काम कर रहे लोगों के परिजन मौके पर पहुंचने लगे। जैसे-जैसे लाशें निकल रही हैं, लोगों की चीख-पुकार यहां तेज होते जा रही है।
– मारे गए लोगों के परिजनों का रो-रोकर बुरा हाल है। जो अबतक लापता हैं, उनके अपनों की आंखें हर ओर उन्हें खोज रही हैं।
– ईसीएल के अधिकारियों ने शुक्रवार को बताया कि अबतक दस शव बरामद कर लिये गये हैं। खदान के अंदर कई डंपर और एक्सकवेटर फंसे हुए हैं।
– राष्ट्रीय आपदा राहत बल और खान सुरक्षा महानिदेशक की टीम घटनास्थल पर पहुंच कर राहत एवं बचाव कार्य चला रही है।
– मुख्यमंत्री रघुवर दास ने युद्ध स्तर पर राहत एवं बचाव कार्य चलाने का आदेश दिया है। गोड्डा खान दुर्घटना को लेकर प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी ने झारखंड के मुख्यमंत्री से फोन पर राहत कार्य की जानकारी प्राप्त की।
– दुर्घटना पर प्रधानमंत्री ने गहरा दुख व्यक्त करते हुए राहत कार्य में हर संभव मदद का भरोसा दिलाया है। प्रत्येक मृतक के परिवारों को 12-12 लाख का मुआवजा मिलेगा, जिसमें दो-दो लाख रूपये मुख्यमंत्री की ओर से दिए जाएंगे। राज्य सरकार घायलों को पच्चीस-पच्चीस हजार रुपये की सहायता राशि देने देगी। पांच लाख रुपए केंद्र सरकार और पांच लाख रुपए आउटसोर्सिंग करा रही कंपनी देगी।
– खान सुरक्षा महानिदेशालय के महानिदेशक राहुल गुहा ने दुर्घटना की जांच के लिए इस्टर्न जोन, सितारामपुर के उप महानिदेशक यू साहा के नेतृत्व में पांच सदस्यीय कमिटी गठित की है ।
– मुख्यमंत्री ने जिले के उपायुक्त को निर्देश दिया कि राहत एवं बचाव कार्य युद्धस्तर पर करें तथा प्रशासन घटनास्थल पर मुस्तैदी से कार्य करें,इसे सुनिश्चित करें।



Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *