Trending
Search

बड़ा खुलासा ! दिल्ली के हवाला का पैसा गया में होता था सफेद

गया (राकेश कुमार): नोटबंदी के बाद गया के मोती बाबू के यहां आयकर विभाग ने छापेमारी कर उनके ब्लैक मनी को व्हाइट करने के बड़े रैकेट का खुलासा किया था. मामले की जांच का दायरा जैसे-जैसे बढ़ता जा रहा है, इसमें संलिप्त लोगों की संख्या भी बढ़ती जा रही है. इसका कनेक्शन दिल्ली के हवाला कारोबारी बिमल जैन और दिनेश जैन के अलावा मुंबई के हवाला रैकेट से जुड़ा मिला है.
 
इसमें मुख्य रूप से ब्लैक मनी को सप्लाइ करने वाले ‘गुप्ता’ नाम का एक बड़ा कारोबारी भी सामने आया है. इनका एक पूरा रैकेट था, जो अपनी ब्लैक मनी को मोती को भेजता था. मोती इन पैसों को सफेद करने का काम करता था. इसके ऐवज में उसे दो से ढाई प्रतिशत कमीशन मिलता था.  फिलहाल गुप्ता और इसके जैसे अन्य बड़े शख्सियतों की तलाश चल रही है. मनी लांड्रिंग की बात सामने आने पर आयकर विभाग ने इस मामले में पीएमएलए (प्रीवेंशन ऑफ मनी लांड्रिंग एक्ट) के तहत कार्रवाई करने के लिए इडी को ट्रांसफर कर दिया गया है. इस मामले की जांच आर्थिक अपराध इकाई (इओयू) ने भी शुरू कर दी है. मोती समेत इस तरह के सात अन्य मामलों की जांच इडी को सौंपी गयी है.
जनधन के अलावा भी मिले सेविंग खाते
जनधन खातों के अलावा मोती के इस रैकेट में एसबीआइ और एक्सिस बैंक में खोले गये करीब 10 ऐसे खातों का पता चला है, जो सेविंग या लोन एकाउंट हैं. इन खातों का भी उपयोग ब्लैक से व्हाइट करने के खेल में हुआ.  इन खातेदारों को इसकी जानकारी है. सेविंग एकाउंट वाले खातेदारों को कुछ रुपये देकर उनके नाम से खाता खोला गया. फिर उनसे पूरी चेकबुक पर हस्ताक्षर करवा कर इसे दिल्ली भेज दिया गया, जहां से समय-समय पर तय लिमिट में रुपये की निकासी कई दूसरे खातों में या सीधे निकालने का काम किया गया है. तीन-चार लोन खातों का भी पता चला है, जिनका उपयोग भी ब्लैक मनी को छिपाने में उपयोग किया गया है.
 
आयकर विभाग ने नोटबंदी के बाद ब्लैक मनी को व्हाइट करने के खेल से जुड़े 70 से ज्यादा संदिग्ध खातों को सीज किया है. अभी एेसे करीब तीन हजार संदिग्ध खातों की जांच चल रही है. इन 70 खातों में सात बैंक खातों में मनी लांड्रिंग की बात सामने आयी है. इन पर पीएमएलए के तहत कार्रवाई करने के लिए इन्हें इडी को ट्रांसफर किया गया है.



Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *