Trending
Search

स्वास्थ्य रक्षा के आसान उपाय

जीवन में यदि आप हमेशा सवस्थ रहना चाहते हैं तो वैदिक वाटिका के द्वारा बताए गए इन उपायों पर अम्ल करें। ये उपाय प्राचीन ग्रथों के आधार पर लिखे गए हैं। और आज के समय में यदि आप इनका पलन करते हैं तो इससे आपका परिवार भी रोगमुक्त रहेगा। आप हमेशा सुनते होगें एक इंसान सौ साल से उपर का है। यह सच है क्योंकि पुराने समय में इंसान दो सौ साल तक भी जीते थे। जिसकी वजह से उनकी ये आदतें जिन्हें हम आपको बता रहे हैं। आइये जानते हैं क्या हैं ये सरल उपाय

  • उम्र बढ़ाने के सुबह ब्रह्म मुहूर्त में उठें।
  • मसूड़ों और दांतों की सफाई के लिए ब्रश की जगह दातुन का प्रयोग करें।
  • सौ साल की उम्र तक बिना बीमारी के जीवन जीने के लिए रात में तांबे के बर्तन में रखा हुआ पानी सुबह के समय में पीएं।
  • रोज सुबह सैर करें। इससे आयु और बल बढ़ता है।
  • रोज शरीर पर तेल की मालिश करने से त्वचा का कोई रोग नहीं लगता है।
  • सुबह हमेशा स्नान करें। और जिस भी धर्म को आप मानते हैं उसकी पूजा जरूर करें।
  • चाय की जगह दूध का सेवन करें।
  • अधिक मिर्च, मसालों और नमक के सेवन से बचना चाहिए। यह उम्र को घटाते हैं। खाना हमेशा संतुलित मात्रा में खाएं अर्थात भूख से कम ही खाएं।
  • रात का खाना खाने के बाद थोड़ा टहलें और बायीं तरफ करवट लेकर सोना चाहिए।
  • खाना खाने के तुंरत बाद कभी दौड़ना या भागना नहीं चाहिए।
  • हाथों के नाखून बढ़ें हुए नहीं होने चाहिए।
  • किसी भी तरह की नशीली वस्तु का सेवन ना करें।
  • मांस-मछली आदि के सेवन से बचें।
  • मल-मू.त्र के वेग को कभी नहीं रोकना चाहिए अन्यथा मूत्र रोग हो सकता है।
  • हमेंशा निरोग रहने के लिए सुबह के समय चार पत्तियां तुलसी की खानी चाहिए।
  • अपने मन और इन्द्रिय को शांत रखें। इसके लिए आप प्रायाणाम करें।

सौ साल जीने के लिए यही एक आयुवेर्दिक संजीवनी है। इंसान का शरीर समय के अनुसार बदलता रहता है। लेकिन यदि अपने मन और आदतों पर वह नियंत्रण रखेगा तो सौ साल तक बीमार नहीं पड़ेगा।




Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *