Trending
Search

घपला : पैक्स व नेकॉफ की मिलीभगत से 6 हजार क्वींटल धान की हेराफेरी

देवघर में  पैक्स और धान क्रय एजेंसी नेकॉफ की मिली भगत से 6 हजार क्वींटल धान की हेराफेरी का मामला सामने आया है. विभागीय अधिकारी भी मामले में संबंधित पैक्स को दोषी ठहरा कर अपना पल्ला झाड़ रहे हैं. हेराफेरी की गई इतनी बड़ी मात्रा में धान की कीमत करीब 80 लाख रूपए आंकी जा रही है.

मालूम हो कि पिछले खरीफ मौसम में देवघर में धान क्रय का जिम्मा नेकॉफ संस्था को दिया गया था. सहकारिता विभाग के अधीन कार्यरत पैक्स के जरिए निबंधित किसानों से धान की खरीद कर नेकॉफ
को इसे चावल मिल तक पहुंचाना था. लेकिन 4 पैक्सों में खरीद किया गया लगभग 6 हज़ार क्विंटल धान इन पैक्सों से चावल मिल तक पहुंचा ही नहीं. मामले में पैक्स और नेकॉफ एक दूसरे को इस गड़बड़ी के लिए जिम्मेदार ठहरा रहे हैं. उधर सहकारिता विभाग इस पूरे मामले से अपना पल्ला झाड़ रहा है.

सरकार के साथ नेकॉफ के हुए अनुबंध के अनुसार धान खरीद के बाद खाद्य आपूर्ति विभाग को ये राशि नेकॉफ को उपलब्ध करानी थी. अब नेकॉफ द्वारा संबंधित पैक्स के खाते में धान खरीद की राशि हस्तांतरित करने का दावा किया जा रहा है. मजे की बात है कि खाद्य आपूर्ति विभाग भी अब इसे पैक्स और नेकॉफ के बीच का मामला बता कर अपना हाथ खींच रहा है.


हेराफेरी किए गए 6 हज़ार क्विंटल धान की बाजार में कीमत लगभग 80 लाख रूपए है. ऐसे में बड़ा सवाल है कि इतनी बड़ी मात्रा में अगर धान की खरीद हुई तो धान कहा चला गया. अगर धान की खरीद नहीं हुई तो किस आधार पर राशि का भुगतान पैक्सों के खाते में कर दिया गया. अब मामले की पूरी जांच के बाद ही सच्चाई सामने आने की उम्मीद करनी होगी.




Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *